भव्य पुरातन हवाना –

क्यूबा की राजधानी हवाना का डाउनटाउन है पुरातन हवाना। यह हवाना के पंद्रह नगर निगमों में से एक है।


मेक्सिको की खाड़ी के मुहाने तथा अमेरिका के फ्लॉरिडा राज्य की धुरी पर स्थित क्यूबा की राजधानी हवाना का डाउनटाउन (पुरातन हवाना) हवाना के पंद्रह नगर निगमों में से एक है। यहाँ पर धड़कता है हवाना का दिल। घनी आबादी, सुव्यवस्थित चारदीवारी से घिरा पुरातन हवाना विश्व के पर्यटकों के लिए विशिष्ट आकर्षण का केंद्र है। इसकी अद्वितीय, सुव्यवस्थित किलेबंदी।स्थापत्यकला को दृष्टिगत रखते हुए 1982 ई में यूनेस्को की विश्व विरासत समिति ने पुरातन हवाना को विश्वविरासत घोषित कर दिया था।

स्पेन शासकों ने हवाना खाड़ी की प्राकृतिक बन्दरगाह पर 1529 में इस नगर की स्थापना की थी। यह नयी दुनिया तथा पुरानी दुनिया के बीच बहुमूल्य खजाने से भरे स्पेनिश जहाजों के लिए पड़ाव का काम करता था। 17वीं शताब्दी में यह जहाज़ निर्माण का प्रमुख केंद्र बन गया था। नगर का निर्माण तत्कालीन ‘बराक शैली’ एवं ‘नियोक्लासिक स्थापत्य शैली में किया गया था। 20वीं सदी के उत्तरार्ध में अनेक इमारतें ध्वस्त हो गयी थीं। कुछ इमारतों का पुनर्निर्माण किया गया। पुरातन हवाना की संकरी गलियों में आज भी अनेक मूल इमारतें संरक्षित हैं। बन्दरगाह के तट पर स्थित पुरातन हवाना में प्रशासकीय कार्यालय तथा प्लाज़ा-द- अर्मस है। फ्रांसीसी समुद्री लुटेरे जैक्स-द-सोरेस ने 1555 ई में पूरे नगर को आगजनी और लूटपाट से तहस-नहस कर ड़ाला। गिने-चुने लोग ही बचे थे। सोरेस ने जिस धन-दौलत के लालच में लूटपाट मचाई थी वह उसको नहीं मिली। उसको खाली हाथ ही लौटना पड़ा।

इस घटना के बाद स्पेन के सम्राट ने नगर की सुरक्षा को ध्यान में रख कर नगर के चारों तरफ सुदृढ़ किलेबंदी करवा दी थी। ‘केस्टिलो-द-ला-रीयल फ्यूएजन’ पहला किला था। इसका निर्माण कार्य इंजीनियर बार्टोलोम सेंचेज़ की देखरेख में 1558 ई में सम्पन्न हुआ था। अलेंजों कार्पेंटियर इसको स्तंभों पर स्थित किला कहते थे। यहाँ का प्रवेशद्वार, खंडित इमारतें, शीतल,छायादार बरामदे चित्ताकर्षक हैं। पुरातन स्मारक, किले, कानवेंट,चर्च, राजप्रासाद, संकरी गालियां, लोगों की गहमागहमी पर्यटकों का मन मोह लेती हैं। क्यूबा का प्रशासन पुरातन हवाना के संरक्षण के लिए प्रत्येक संभव प्रयास कर रहा है।

पुरातन हवाना के मनोरम स्थलों का आनंद पैदल चल कर लिया जा सकता है। संकरी गलियों में घूमते फिरते,स्थानीय लोगों से बातचीत करते-करते कब स्पेनिश किला आ जाता है पता ही नहीं चलता। नवीन बराक शैली में निर्मित कैफ़े में मधुर संगीत के बीच काफी की चुसकियाँ तन-मन को नूतन ऊर्जा से परिपूर्ण कर देती हैं।

कैथेड्रल-सन- क्रिस्टोबल –

यह चर्च क्रिस्टोबल नाम के अनुरूप ही भव्य तथा पर्यटकों के विशिष्ट आकर्षण का केंद्र है। यह ‘पवित्र वर्जिन मेरी कैथेड्रल’ के नाम से भी प्रसिद्ध है। क्यूबा की अद्वितीय बराक शैली में निर्मित इस प्लाज़ा का निर्माणकार्य 29 वर्ष में 1777 ई में पूरा हुआ था। बाहर दो विशाल घंटाघर हैं। भीतर खूबसूरत स्तम्भ, मेहराबदार छतें तथा सेंट क्रिस्टोफर की सुंदर प्रतिमा है। कहा जाता है कि यहाँ पर 1796 ई से 1898 ई तक क्रिस्टोफर के स्मृतिचिन्ह रखे हुए थे। कैथेड्रल को भीतर से देखने के बाद पर्यटक बाहर किसी कैफे में बैठ कर उसके भव्य, सुसज्जित बाह्य सौंदर्य का आनंद लेते हैं।

प्लाज़ा-द-अर्मस-

लगभग पाँच सदियों से ‘प्लाज़ा-द-अर्मस’ नगर की प्रमुख गतिविधियों का केंद्र है। इसमें अनेक कैफ़े,रेस्टौरेंट, छायादार बाग हैं। गर्मी से राहत पाने के लिए पर्यटक यहाँ पर विश्राम करते हैं। प्लाज़ा के साथ अनेक खूबसूरत इमारतें हैं। विशिष्ट है- ‘पैलेसियो-द-लो-कैपिटन्स’। यहाँ पर 60 से अधिक जनरल आए थे। अब यहाँ पर ‘म्यूजियो-द-ला-सिउडाड'( सिटी म्यूज़ियम) स्थित है। इसके हरे-भरे प्रांगण में संगीत कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। प्लाज़ा-द-अर्मस के केंद्र में स्थित है 16वीं सदी में निर्मित औपनिवेशकालीन किला ‘केस्टिलो-द-ला-फ्यूएरजा’। फवारे के समीप स्थित है क्यूबा के राष्ट्र नायक ‘केस्पेडेस’ की प्रतिमा।

ला-बोडेगिरा-डेल-मेडियो-

यहाँ पर प्रख्यात लेखकों के पदचिन्ह अंकित हैं। इस रेस्टौरेंट की स्थापना 1942 ई में हुई थी। यह प्रख्यात लेखकों का प्रिय स्थान था। पाब्लो नेरुदा, गेब्रियल गर्सिया मार्क्वेज, नाट किंग काल और अर्नेस्ट हेमिंग्वे का यह प्रिय स्थान था। पर्यटक यहाँ आते हैं, बैठकर शीतल पेय, सी फूड का स्वाद चखते हैं तथा क्यूबा के मधुर संगीत का आनंद लेते हैं। यहाँ के कण-कण में प्रसिद्ध लेखकों व संरक्षकों की छाप अंकित है।

केस्टिलो- द-ला-फ्यूएरजा-

सिटी म्यूज़ियम से थोड़ी दूरी पर स्थित है 16वीं सदी में निर्मित किला-केस्टिलो-द-ला-फ्यूएरिजा। समुद्री डाकुओं के आक्रमण से सुरक्षा को ध्यान में रख कर इस किले का निर्माण करवाया गया था। किस्मत की बात है कि उस उद्देश्य के लिए किले का उपयोग करने की कभी आवश्यकता ही नहीं पड़ी। इसके विपरीत यह सैन्य अधिकारियों, संभ्रांत वायक्तियों के निवासस्थल तथा बहुमूल्य वस्तुओं के भंडारगृह के रूप में इस्तेमाल किया गया। फ्रांसिस्को-द-केलोना ने इसका डिजाइन तैयार किया था और निर्माण करवाया था। इंजीनियरिंग के दृष्टिकोण से यह संरचना अद्वितीय है। किले की दीवारें 6मीटर मोटी तथा 10 मीटर ऊंची हैं। यहाँ के सामुद्रिक संग्रहालय में पुरातन नौकाओं के मॉडल, हथियार तथा डूबे हुए जहाजों से निकाला गया बहुमूल्य सामान रखा हुआ है।

म्यूजियो-द-ला-सिउडाडा (सिटी म्यूज़ियम)

भव्य बराक शैली में निर्मित ‘पैलेसियो-द-ला-कैपिटन्स’ में स्थित सिटी म्यूज़ियम में संरक्षित है हवाना का अतीत। ‘हाल ऑफ हिरोइक में क्रांतिकालीन विशिष्ट सामान रखा हुआ है। कला में रुचि रखने वाले एस्पेडा स्माधिस्थल पर फ्रेंच कलाकार ‘वरमे’ की समाधि को देख कर अभिभूत हो जाते हैं। सिंहासन कक्ष में विशाल शानदार कुर्सी रखी हुई है। इसका निर्माण स्पेनिश सम्राट के बैठने के लिए करवाया गया था। भाग्य से न तो सम्राट आए और न ही कुर्सी इस्तेमाल हुई। केवल संग्राहलय में दर्शकों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। ‘सेलोन-द-लो-एस्प्रेजोस’ 19 वीं सदी के चित्ताकर्षक दर्पणों से सज्जित है। इसी कक्ष में 1899 ई में स्पेनिश आधिपत्य की समाप्ति की घोषणा की गयी थी। यहाँ के अन्य विशिष्ट आकर्षण हैं-‘पैरोक्वील चर्च का स्मारक’ इसमें क्यूबा की ला-गिरलिडला’ की प्राचीनतम कांस्य प्रतिमा विद्यमान है।

प्लाज़ा विएज़ा-

प्लाज़ा विएजा समय-समय पर भिन्न रंग-रूप लेता रहा है। अब यह जनसामान्य के घूमने-फिरने के लिए प्रिय स्थान है। 16वीं सदी के मध्य स्थापित इस प्लाज़ा में किसी समय युद्धाभ्यास किया जाता था। यहाँ पर खूबसूरत बाज़ार भी था। 1950 ई में यहाँ पर भूतल पार्किंग बना दी गयी। नगरवासियों के विरोध करने पर सरकार के समर्थन से प्लाज़ा का पुनर्निर्माण किया गया। अब यह प्लाज़ा पुरातन हवाना का सर्वाधिक लोकप्रिय स्थान है। क्यूबा की नवीन बराक शैली में निर्मित भवनों की शोभा देखते ही बनती है। प्लाज़ा के मध्य 18वीं सदी का एक छोटा सा सुंदर फव्वारा भी मुग्धकारी है। 18 वीं सदी की एक अन्य संरचना ‘कासा-द-कोंडा-जरुको’ की रंगीन काँच की खिड़कियाँ भी दर्शकों का मन मोह लेती हैं। इस चित्ताकर्षक स्थान की सैर करने के बाद पर्यटक 35 मीटर ऊंचे गुंबद ‘कैमरा ओब्स्क्युरा’ पर खड़े हो कर नगर की मनोरम दृश्यावली देख कर मंत्रमुग्ध रह जाते हैं। एक छोटे से म्यूज़ियम में ताश का इतिहास दर्शाया गया है। देखने के बाद किसी कैफ़े में बैठ कर विश्राम किया जा सकता है।

प्लाज़ा-द-सन-फ्रांसिस्को-

पुरातन हवाना की बन्दरगाह के सामने है -प्लाज़ा-द-सन-फ्रांसिस्को। सागर से आते शीतल हवाओं के झोंके पर्यटकों के तन-मन में नूतन ऊर्जा का संचरण कर देते हैं। घुमावदार चौराहों पर नयी भव्य इमारतें दिखाई देती हैं। दो इमारतें विशेष रूप से दर्शनीय हैं-‘लोंजा-द-कमर्शिओ के मध्य है चित्ताकर्षक गुंबद ,2-बेसेलिका-मेनोर-द-सन-फ्रांसिस्को-द-असीस की मीनार से नगर तथा सागर की सुंदर दृश्यावली दिखाई देती है। यहाँ पर संगीत कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। पूरे क्यूबा में बेसेलिका अपने उत्कृष्ट ध्वनि संयोजन के लिए ख्यात है। इसके मध्य है संगमरमर से बना फव्वारा-‘फ्यूएंटे-द-लो-लिओस’ किसी समय यहाँ से गुजरने वाले जहाज़ यहाँ से साफ, मीठा पानी लेते थे। 1836 ई में ग्युसेप गागिनी ने फव्वारे को देश को समर्पित कर इस का नाम ‘फाउंटेन ऑफ लायन्स’ रख दिया था।

काले ओबिस्पो-

अपने पुरातन इतिहास,समृद्ध स्थापत्यशैली तथा मनोरंजन स्थलों के लिए ‘काले ओबिस्पो’ पूरे क्यूबा में प्रसिद्ध है। यहाँ की संकरी सड़क सेंट्रल पार्क को प्लाज़ा-द-अर्मस से जोड़ती है। शाम के समय यहाँ की रौनक देखते ही बनती है। पर्यटक यहाँ पर ‘एल फ्लोरिडिता’ जैसे मशहूर रेस्टौरेंट्स में रंगीन शामें गुजारने आते हैं। बराक तथा नियोक्लासिक शैली में बनी भव्य इमारतें देखते हैं। होटल ‘एम्बोस मुंडोस’ भी प्रसिद्ध है। प्रख्यात लेखक अर्नेस्ट हेमिंग्वे इस होटल में सात साल तक रहे थे। टेक्विकल फार्मेसी म्यूज़ियम हर्बल औषधियों के लिए प्रसिद्ध है।

केस्टिलो-द-सन-सेल्वेडोर-द-ला-पुंटा-

सागरतट पर चहलकदमी करते, बन्दरगाह का सौंदर्य निहारते हुए जा पंहुचते हैं- ‘केस्टिलो-द-ला-सेल्वेडोर-द-ला-पुंटा। यहाँ का इतिहास प्राचीन और समृद्ध है। इसने हवाना की समुद्रतटीय सुरक्षा में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इसका 1589-1610 के बीच 21 वर्षों के अंतराल में निर्माण हुआ था तथा हवाना बन्दरगाह के पश्चिमी छोर पर स्थित है। हवाना के अन्य किलों के साथ तांबे और लकड़ी की मज़बूत ज़ंजीरों के साथ जुड़ा हुआ है। आक्रमण होने की स्थिति में इन ज़ंजीरों को कस दिया जाता था। फलस्वरूप शत्रु के जहाज़ बन्दरगाह में प्रवेश नहीं कर पाते थे। यहाँ का विशिष्ट दर्शनीय स्मारक है- घोड़े पर सवार जनरल मेक्सिमो गोमेज की प्रतिमा।

होटल इंगलेटेरा-

यह क्यूबा का सबसे पुराना होटल है। इसका निर्माण 1895 ई में हुआ था। यहाँ आने वाले लोगों में अनेक ख्यात लोगों के नाम शामिल हैं यथा-अन्ना पेवलोवा, जेम्स मार्टी, विंस्टन चर्चिल आदि। स्वतन्त्रता प्राप्ति से पहले यहाँ पर उदारवादी विचारों के व्यक्तियों की गोष्ठियाँ हुआ करती थी। एंटोनियो मेसियो ने यहीं पर बैठ कर क्यूबा की स्वतन्त्रता की योजना तैयार की थी। अब यह पर्यटकों के लिए सस्ता,सुविधासम्पन्न आवासस्थल है। यहाँ की विशाल बाल्कनी में आरामदेह कुर्सी पर बैठ कर इतिहासकार क्रांतिकाल में होटल की भूमिका के चिंतन में डूब जाते हैं।

विशिष्ट जानकारी-

हवाना के दक्षिणपश्चिम मे नौ मील दूर ‘जोस मार्टी’ अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट है। यह पूरे विश्व के साथ सम्बद्ध है। यहाँ से नगर में जाने के लिए शटल बस, कार व टैक्सी सुविधापूर्वक मिल जाती है।

पुरातन हवाना के विशिष्ट स्थलों का भ्रमण करने के इच्छुक पर्यटकों के लिए होटल ‘अम्बोस मुंडोस’ व होटल फ्लॉरिडा अधिक सुविधाजनक हैं। वैसे वहाँ पर बजट के अनुरूप अन्य आवासस्थल भी उपलब्ध हैं।

नगर में घूमने-फिरने के लिए सार्वजनिक परिवहन के अतिरिक्त टैक्सी तथा किराए की कार अन्य विकल्प है।

================================

प्रमीला गुप्ता

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.